NCERT ने हटाये मुगल साम्राज्य से जुड़े अध्याय

NCERT
NCERT

NCERT नेशनल काउंसिल ऑफ एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग ने बारहवीं के इतिहास पाठ्यक्रम में बड़ा बदलाव किया है। मुगल साम्राज्य से जुड़ी पूरी अध्याय कोर्स से बाहर कर दिया गया है। वहीं कम्युनिस्ट और जनसंघ से संबंधित चेप्टर में हटा दिये गये हैं। इसके अलावा हिंदी की बुक से कुछ कविताएं और पैराग्राफ बदले गये हैं।

NCERT नई सिलेबस में थीम्स ऑफ इंडियन हिस्ट्री-पार्ट कक से 16वीं और 17वीं शताब्दी के शासकों व उनके इतिहास से संबंधित चेप्टरों को हटा दिया गया है। नागरिक विषय से यूएस हिजेमनी इन वर्ल्ड पॉलिटिक्स और ‘द कोल्ड वॉर एरा’ जैसे चैप्टर को भी हटा दिये गये हैं।

राजनीति विषय से जन आंदोलन का उदय और एक दल के प्रभुत्व का दौर हटाया गया है। इनमें कांग्रेस के प्रभुत्व की प्रकृति, सोशलिस्ट, कम्युनिस्ट पार्टी, कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया, भारतीय जनसंघ आदि को पढ़ाया गया है। नया बदलाव नये एकेडमिक सेशन से चालू हो जाएगा।

NCERT ने हिन्दी सब्जेक्ट के सिलेबस में भी कुछ बदलाव किए हैं। इनमें हिन्दी आरोह भाग-2 की किताब से फिराक गोरखपुरी की गजल और अंतरा भाग दो से सूर्यकांत त्रिपाठी निराला की गीत गाने दो मुझे को हटा दिया है। इसके अलावा विष्णु खरे की एक काम और सत्य को भी हटाया गया है।

विषयों में किये गये बदलाव देशभर के उन सभी स्कूलों व छात्रों के लिए लागू होगा। जहां NCERT की किताबें पढ़ाई जाती है। इसमें CBSE और उत्तर प्रदेश बोर्ड भी शामिल है। NCERT के मुताबिक, सिलेबस में जो भी बदलाव किया गया है उसे मौजूदा शैक्षणिक सत्र यानी बदलाव 2023-24 से ही लागू कर दिया जाएगा।

उत्तर प्रदेश बोर्ड के सचिव दिव्यकांत शुक्ला ने क्लास 10, 11 और 12वीं के नए पाठ्यक्रम की पुष्टि की है और कहा कि इसमें बदलाव किए गए हैं। यूपी बोर्ड का सिलेबस 2023-24 आधिकारिक वेबसाइट पर जारी किया जाएगा।

Related Articles

Back to top button